livedosti.com

ऑफिस वाली सेक्सी माया – पार्ट २

जब लंड जड़ तक समां गया, माया ने अपनी गांड हिलना चालू किया. अपने चुच्चे दबाते हुए माया अपनी गांड हिला रही थी. ये देख के अंकित का जोश दुगना हो गया और अंकित नीचे से धक्के लगाने लगा.

फच्च फच्च फच्च की आवाज कमरे में गूंजने लगी. माया की चुत में अंकित का लंड सटा सट्ट अंदर बाहर हो रहा था. माया ने अपने दोनों हाथ अंकित के सीने पे रख रखे थे और अंकित के लंड पे उछल रही थी. अंकित ने एक हाथ से माया का दाना रगड़ना शुरू किया और दूसरे से एक निप्पल खीचना मरोड़ना चालू कर दिया. अंकित जानता था माया की वासना कैसे बढ़ानी है. माया के उछलते हुए मम्मो को देख के अंकित और उत्तेजित हो रहा था और माया के चुत की गर्मी अंकित की हवस को और भड़का रही थी. अंकित ऊपर की और उठा और माया का चुच्चा अपने मुँह में भर के चूसने लगा.

XXX Office Sex Kahani > साली साहेबान बीवी मेहरबान

अंकित के बैठने से उसके पेट का सबसे निचला हिस्सा माया के दाने को रगड़ने लगा और माया अपनी गांड और जोर से हिलने लगी. उसको लग रहा था के अंकित उसके मम्मे को खा ही जाएगा. अब अंकित और माया दोनों ही कभी भी झड़ सकते थे लेकिन अंकित इस खेल को और खेलना चाहता था. उसे पता था माया भी यही चाहती है. अंकित अपने घुटनो के बल उठा और बिना अपना लंड बाहर निकले माया को बिस्तर पे पटक दिया. इसी आसान में अंकित ने १०-१२ घस्से लगाए और फिर अपना लंड बाहर निकल लिया. माया को अचानक अपनी चुत खली खली लगने लगी.

इससे पहले वो कुछ समझ पाती अंकित ने माया को घोड़ी बना दिया और पीछे से अपना लंड एक झटके में उसकी चुत में उतर दिया. माया के तन बदन में आग लग गई और उसके मुँह से एक मादक सीत्कार निकल गई. “आअह्ह्ह और चोदो अंकित. चोद दो अपनी इस चुत को. जोर से डालो. आआह्ह्ह ओह्ह्ह्हह मेरे राजा. मर गईईईईईईईईईई. चोद डालो जानूनूनूनूनूनू”. अंकित को अब माया की गांड दिख रही थी और माया की गांड मारे की तड़प बढ़ती जा रही थी. माया को चोदते चोदते अंकित से माया की गांड सहलाना चालू किया. माया की गांड का पिंक छेद अंकित को पागल बना रहा था.

XXX Office Sex Kahani > लण्डधारी शैतान

अंकित से रहा ना गया और उसने अपनी एक उंगली माया की गांड में डालनी चालू की. माया को पता था अंकित क्या चाहता है. शादी के बाद से उसने अंकित को रोक रखा था लेकिन आज जो भी कुछ हुआ ऑफिस में, उसके बाद माया बोहोत उत्तेजित भी थी और उसके मन में अंकित को धोका देने की ग्लानि भी थी. इसलिए उसने अंकित को नहीं रोका और अपनी गांड को पीछे की तरफ धकेलने लगी. जब अंकित को समझ आया माया क्या कर रही है, वो और उत्तेजित हो गया और माया की चुत को बेरहमी से अपने लंड से और गांड को अपनी उंगली से चोदने लगा. कुछ ही पालो में दोनों झड़ने लगे.

आज अंकित और माया को उनकी सुहागरात याद आ गई थी जब दोनों ने पूरी रात चुदाई की थी. अंकित हफ्ता हुआ माया की पीठ पे गिर गया और माया उसका वजन संभल नहीं पाई. और वो भी बिस्तर पे गिर गई. “आज तुमने मुझे वो आंनद दिया हैं जान, जो मैं तुम्हे बता भी नहीं सकता” अंकित भावुक होते हुए बोला. “कल का इंतज़ार करो मेरे चोदू राजा. कल मैं तुम्हारा बरसो पूरा सपना पूरा करुँगी. कल तुम इस गांड का उद्घाटन कर के मुझे पूरी तरह अपना बना लेना.” माया अंकित को अपनी बहो में लेते हुए बोली. दोनों एक दूसरे की आगोश में सो गए.

आज माया ने बोहोत ही सिंपल साडी पहनी थी. हलाकि वो जानती थी इससे ज्यादा फरक नहीं पड़ने वाला, लेकिन वो आग में घी नहीं डालना चाहती थी. माया ने अपनी गाडी पार्किंग में लगाई और तेज़ कदमो से अपने केबिन की तरफ बढ़ चली.

XXX Office Sex Kahani > भाई ने उठाया मौके का फायदा

वो ऑफिस आज जल्दी आ गई थी और उस्मान, अमित या सुमित से पहले अपने केबिन पोहोच के अपनी ब्रा और पेंटी उतर देना चाहती थी. लेकिन शायद उसकी किस्मत ख़राब थी. “इतनी जल्दी क्या है मैडम?” उसे उस्मान की आवाज सुनाई दी. उसके कदम और तेज़ हो गए लेकिन उस्मान एकदम से भाग के उसके सामने आ गया. “ये तूने अच्छा नहीं किया रंडी. अभी अमित सर को बताता हु.” कहता हुआ उस्मान चला गया. कुछ देर बार अमित और उस्मान दनदनाते हुए केबिन में घुसे. “तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई मेरी बात टालने की?” अमित चिलाते हुए बोला.

उनके आने से पहले माया अपनी ब्रा और पेंटी उतर के अपने ड्रावर में छुपा चुकी थी. “कौनसी बात नहीं मानी मैंने तुम्हारी” माया अनजान बनते हुए बोली. “ज्यादा बन मत रंडी. आप रुकिए सर. में आपको अभी दिखता हु” कहता हुआ उस्मान माया की टेबल की तरफ बढ़ा और इससे पहले माया उसे रोक पाती, उस्मान ड्रावर खोल चूका था. “ये देखीये सर. कहा था ना मैंने आपसे” माया की पेंटी सूंघते हुए उस्मान बोला.

अमित का चेहरा गुस्से से लाल हो गया. “इसकी सजा तो देनी ही पड़ेगी इस कुतिया को” अमित गुस्से से तमतमाता हुआ बोला. माया की आखो से आंसू निकल रहे थे लेकिन उसे अमित और उस्मान से दया की कोई उम्मीद नहीं थी. “चल रांड, कड़ी हो और यहाँ आ” अमित चिल्लाया. माया उठी और अमित के सामने जाके खड़ी हो गई. अमित ने माया को उल्टा घुमाया और उसके सर पे हाथ रख के नीचे की तरफ धक्का लगाया. इससे माया का सर टेबल पे टिक गया. माया कोशिश कर रही थी लेकिन अमित के आगे उसकी एक ना चली.

XXX Office Sex Kahani > पड़ोसन की जवान बेटियाँ

अमित ने उस्मान को इशारा किया और उस्मान भी माया के पीछे आ गया. अब उस्मान ने माया की साडी ऊपर उठानी चालू की और अमित माया के ब्लाउज पे टूट पड़ा. माया बस खुद को छुड़ाने की नाकाम कोशिश कर रही थी. “आज तुझे पता चलेगा अमित को थप्पड़ मारने का क्या नतीजा होता है. तुझसे पहले 4 और रंडियो ने यही गलती की थी और आज भी जब चाहे जहाँ चाहे उन्हें चोदता हु” शेखी मारते हुए अमित बोला. “लेकिन उन सब में इसके जितने बड़े मम्मे किसी के नहीं है सर. ये जबसे आई हे रोज़ इसके नाम की मुठ मारता हु में.” माया गई साडी उसकी गांड से लगभग ऊपर उठाते हुए उस्मान बोला. “तो आज तुझे इनाम मिलना ही चाहिए. आज तेरी माया मैडम खुद अपने मुलायम मुलायम होठो से तेरी मुठ मारेगी” हस्ते हुए अमित बोला.